गजब दर्शन: लाल कपास और बाघों के लिए प्रसिद्ध सिमलिपाल National Park

सिमलिपाल राष्ट्रीय उद्यान National Park भारत के ओडीशा राज्य के मयूरभंज अनुसूचित जिला में स्थित एक राष्ट्रीय उद्यान है तथा एक हाथी अभयारण्य है। इस उद्यान का नाम सेमल या लाल कपास के पेड़ों की वजह से पड़ा है जो यहाँ बहुतायत में पाये जाते हैं। बाघों की संख्या सिमलीपाल में लगातार बढ़ रही है। इसी से जाहिर है कि यहां का पर्यावरण, जलवायु और वातावरण इन जंतुओं के लिए बिलकुल अनुकूल है।

TripAdvisor

आकर्षक दृश्य

घने जंगल, छोटी-बड़ी पहाडि़यां और उनमें अपनी पूरी मस्ती व गरिमा के साथ घूमते जंगली जीव, कुल मिलाकर पर्यटकों को लुभाने के लिए ऐसा आकर्षक दृश्य प्रस्तुत करते हैं, कि आने वालों को यह स्वर्ग जैसा लगने लगता है। कोई प्रकृतिप्रेमी व्यक्ति यहां बाघों की गर्जना, हाथियों की चिंघाड़, कई तरह के देशी-विदेशी पक्षियों के मधुर कलरव, साल एवं जंगली पेड़ों से होकर गुजरती सरसराती हवाओं तथा जंगल का आदिम संगीत सुनकर मंत्रमुग्ध हो सकता है। इसकी सीमा से होकर कुल 12 नदियां गुजरती हैं और कई झरने भी यहां हैं। वन्य जीवन के अलावा बरहीपानी (400 मीटर) और जोरांडा (150 मीटर) फॉल भी यहां बार-बार आने को विवश करते हैं।

देखने को मिलती है जैव विविधता

रात के समय वहां रहते हुए बाघ, भालू, हिरन, चीतल, सांभर जैसे कई जंतुओं की आवाजें सुनना आपको सचमुच रोमांच से भर देगा। रात के अंधेरे को चीरती आती बाघ की दहाड़ और झींगुरों के संगीत से ऐसा लगता है गोया पूरा जंगल जाग रहा हो। मई-जून के महीने में यहां कई रंगों के खिले ऑर्किड देखकर मनमयूर नाचने लगता है।

फॉक्सटेल ऑर्किड

इनमें फॉक्सटेल ऑर्किड जंगल का सबसे आकर्षक पौधा है। वन्य जीवन, झरनों व वनस्पतियों के अलावा भी सिमलीपाल में देखने के लिए बहुत कुछ है। बादलों से घिरी 1158 मीटर ऊंची मेघासनी चोटी को देखकर ऐसा लगता है जैसे किसी स्वप्नलोक में आ गए हों। जोशीपुर के निकट मौजूद रामतीर्थ मगरमच्छ संव‌र्द्धन केंद्र का सफर आपको एक अलग अनुभव देगा।

ऑर्किड की 85 प्रजातियां

जैव विविधता की दृष्टि से भी सिमलीपाल बहुत समृद्ध है। भारत में फूल वाले पौधों की सात प्रतिशत और ऑर्किड की 85 प्रजातियां यहां पाई जाती हैं। पौधों की कुल 1076 प्रजातियां अब तक यहां दर्ज की जा चुकी हैं। यहां पाए जाने वाले वन्य जीवों की सूची यह बताने के लिए पर्याप्त है कि यह कितना संपन्न है।
स्तनधारी : बाघ, चीते, जंगली भैंसे, चित्तीदार हिरन, रीछ, सांभर, माउस डियर, बार्किग डियर, जंगली सुअर, चौसिंघा, रूडी मंगू़ज, पंगोलिन, गिलहरी।
सरीसृप : अजगर, कोब्रा, किंग कोब्रा, वाइपर, करैत, फॉरेस्ट कैलॅट, गिरगिट, मगरमच्छ, काला कछुआ, टेंट कछुआ।
पक्षी : जंगली मुर्गे, धनेश, पहाड़ी मैना, अलेक़्जेंड्रीन, पैराकीट, सर्पेट ईगल।

कैसे पहुंचें

सिमलीपाल में प्रवेश के लिए दो बिंदु हैं- जोशीपुर व लुलुंग। रांची, भुवनेश्वर और कोलकाता यहां से निकटतम हवाई अड्डे हैं। भुवनेश्वर व रांची से यहां के लिए नियमित बस सेवाएं हैं। टाटानगर तक ट्रेनें भी हैं और वहां से सड़कमार्ग से पहुंच सकते हैं।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *