29 राज्य 7 केंद्रशासित प्रदेश वाला देश भारत अपनी विविधता के लिए दुनियाभर में मशहूर है. करीब 1 अरब 26 करोड़ की जनसंख्या समेटे इस देश में आपको कई धर्म, समुदाय, भाषाएं, पहनावा देखने को मिल जाएंगे. इस विविधिता की जड़े इतिहास से जुड़ी हुई हैं. ऐसे में GAZAB STATE की पहली कड़ी में जानते हैं 10 राज्यों के नाम के मतलब के बारें में-

विविधताओं से भरा देश

State के नाम का सिलसिला गुजरात से शुरू करते हैं

गुजरात: जानकारों का मानना है कि गुजरात का नाम गुर्जरत्रा से आया है. गुर्जरत्रा या गुर्जरभूमि के नाम से जाने जाना वाला साम्राज्य छठी से 12वीं सदी तक था. बता दें कि गुर्जर एक समुदाय भी है. इसे कुछ इतिहासकार सूर्यवंश या रघुवंश का बताते हैं.
गोवा: इस राज्य का उल्लेख महाकाव्य महाभारत में ही है, महाभारत में इसे गोपराष्ट्र मतलब गाय चराने वाले लोगों का देश के तौर पर जिक्र है. कुछ दूसरे पुराने स्त्रोतों में गोवा का जिक्र गोपकपुरी और गोपकपट्टन के तौर पर भी हुआ है. हरिवंशम और स्कंद पुराण में भी इस राज्य का जिक्र है. दूसरे नामों में गोवा की जगह गोवापुरी, गोमंत भी इस्तेमाल किया गया है.
महाराष्ट्र: महाराष्ट्र के दो मतलब निकाले जाते हैं, पहला संस्कृत शब्द ‘महा’ मतलब महान और ‘राष्ट्र’, ये शब्द राष्ट्रकूट राजवंश के लिए इ्स्तेमाल किया जाता है. यानी महान राष्ट्रकूट राजवंश के नाम पर महाराष्ट्र पड़ा. वहीं कुछ लोग ये भी कहते हैं राष्ट्र का मतलब देश से है यानी महान देश
मध्य प्रदेश: देश के बिलकुल बीचोंबीच का राज्य होने के कारण इसे मध्य भारत के नाम से जाना जाता था बाद में इसे मध्य प्रदेश का नाम दिया गया.
हिमाचल प्रदेश: ‘हिम’ संस्कृत का शब्द है जिसका मतलब है बर्फ वही अंचल मिलाकर इसका अर्थ बनता है बर्फीले पहाड़ों का क्षेत्र या अंचल. बता दें कि हिमाचल प्रदेश को देवभूमि के नाम से भी जाना जाता है. देश के सबसे मशहूर पर्यटन स्थलों में से ये एक है.
कर्नाटक: कर्नाटक का मतलब जानने की कोशिश में ये पता चलता है कि कर्नाटक शब्द दो शब्दों से मिलकर बना था. सबसे पहले कन्नड़ शब्द ‘करू’ और ‘नाडु’, करू का मतलब होता है काला और नाडु का मतलब है भूमि, प्रदेश या इलाका. मतलब साफ है कि करुनाडु का कुल मतलब निकलता है काली भूमि. यहां काली इसलिए आया क्योंकि इस क्षेत्र में काली मिट्टी पाई जाती है.

ब्रिटिश शासन में इसके लिए कार्नेटिक शब्द का भी इस्तेमाल हुआ. अब कर्नाटक के नाम से जाना जाता है.

आंध्र प्रदेश: आंध्र प्रदेश के नाम का मतलब जानकार आंध्र जाति से निकालते हैं. प्राचीन स्त्रोतों के मुताबिक विश्वामित्र के शाप से उनके 50 पुत्र आंध्र, पुलिंद और शबर हो गए. ऐसे में माना जाता है कि आंध्र जाति के लोग आर्य क्षत्रिय थे.
तेलंगाना: हाल ही में बड़ी मशक्कत के बाद बना है ये राज्य तेलंगाना, जिसका मतलब है तेलुगू भाषियों की भूमि
केरल: केरल राज्य के नाम पर कई जानकारों का अलग-अलग मत है, समझते हैं हर एक का मतलब
– माना जाता है कि चेरलम शब्द से बाद में केरल बना, चेरलम में, चेर का मतलब है कीचड़ या स्थल, अलम का मतलब है प्रदेश
-वहीं कुछ दूसरे विद्वानों का मानना है कि वो जमीन जो समंदर से निकल हो, समंदर और पर्वत के संगम की जगह को भी केरल कहा जाता है.
– इसे मलबार नाम से भी बुलाते हैं, काफी समय से चेरा राजाओं के अधीन रहे इस राज्य को चेरलम और बाद में केरलम कहा जाने लगा.
तमिलनाडु: तमिलनाडु दो शब्दों से मिलकर बना है तमिल यानि तमिल लोगों की, नाडु मतलब देश या जगह. कुल मतलब बैठता है तमिल लोगों का देश.
GAZAB STATE 1 में हमने आपको बताया 10 राज्यों के नाम का मतलब आगे की सीरीज में हम आपको पूर्वोत्तर के सभी राज्यों के नाम का मतलब बताएंगे.
ये भी पढ़ें: जानिए आखिर क्यों शिव प्रतिमा के सामने ही विराजमान रहते हैं नंदी

Leave a Reply