पाक की 'परमाणु' धमकी: जानिए क्या है ‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रिन, परमाणु युद्ध होने पर कितना होगा नुकसान?

भ्रष्टाचारी नवाज शरीफ के पीएम पद से बेदखल होने के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बने शाहिद खाकान अब्बासी ने भारत को धमकी दी है. अब्बासी ने कहा है कि भारतीय सेना के ‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रिन’से निपटने के लिए पाकिस्तान परमाणु हथियार विकसित कर चुका है.

फोटो: YouTube

ऐसे में हर बार परमाणु हमले की धमकी देने वाला पाकिस्तान, भारत के सामने कहां ठहरता है? दुनिया को पता है कि आज खतरा बन चुके उत्तर कोरिया को परमाणु बम पाकिस्तान से ही हासिल हुआ था.
ऐसे में पाक पीएम की गीदड़भभकी के बीच जानते हैं कि क्या है सेना का ‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रिन’ और परमाणु युद्ध से भारत-पाक को कितना नुकसान होगा.

पाकिस्तान का डर -‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रिन’ क्या है?

खुफिया जानकारी लिक करने वाले वेबसाइट विकिलिक्स ने एक खुलासा किया था, कि भारत ने बीजेपी सरकार के दौरान साल 2004 में
‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रिन’ बनाया था. ये वो योजना है जिसके तहत देश में कहीं आतंकी हमला होने के दौरान 72 घंटों में अचानक जवाबी हमला कर आतंकी ठिकानों को नष्ट किया जा सकता है. पाकिस्तान के नेता अक्सर इस योजना का मुद्दा अमेरिका और दूसरे देशों के सामने उठाते रहे हैं, लेकिन भारत ऐसी किसी भी योजना से इनकार करता है.

भारत-पाक के बीच परमाणु युद्ध दुनिया के लिए खतरा

परमाणु बम (प्रतीकात्मक तस्वीर)

अगर भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध हुआ तो नतीजे न केवल दोनों देशों के के लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए बेहद विनाशकारी साबित होंगे. अमेरिका संस्था IPPNW और ‘यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोराडो’ के रिसर्च के मुताबिक करीब 2 करोड़ लोग तो विस्फोट के समय ही मर जाएंगे.

ये संख्या दूसरे विश्व युद्ध में मारे गए लोगों की संख्या की आधी है और बाकी बचे लोगों को रेडिएशन मार डालेगा.

सूर्य की रोशनी तक जमीन पर नहीं पड़ पाएगी

इसके बाद 5 मिलियन टन धुंआ बादलों में 50 किलोमीटर तक वायुमण्डल में तुंरत ही छा जाएगा. ये धुंआ धीरे-धीरे पूरी दुनिया में फैल जाएगा और इतना ही नहीं यह धुंआ सुर्य की किरणों को धरती तक नहीं आने देगा, जिससे विस्फोट के 10 दिन बाद ही उत्तरी गोलार्ध का तापमान हद से ज्यादा ठंडा हो जाएगा.

किस देश का बचेगा अस्तित्व

अगर फिर भी दोनों देशों के बीच परमाणु युद्ध होता है तो कौनसा देश अपना अस्तित्व बचाने में कामयाब होगा? भारत के पास इस समय 110 से 120 परमाणु हथियार हैं, जबकी पाकिस्तान के पास 120 से 130.
-परमाणु बम गिराने के लिए पाकिस्तान के पास नस्त्र, हत्फ़, ग़ज़नवी और अब्दाली जैसी कम दूरी की मिसाइल हैं जिनकी मारक क्षमता 60 से लेकर 300 किलोमीटर तक है.
-पाकिस्तान के पास मध्यम दूरी की गौरी और शाहीन मिसाइल हैं जिनकी मारक क्षमता 900 से 2700 किलोमीटर तक है.
-इन मिसाइलों से दिल्ली, जयपुर, अहमदाबाद, पुणे, नागपुर और भोपाल, कोलकाता पर पाकिस्तान परमाणु बम गिरा सकता है.

भारत की ताकत

-भारत के पास कम दूरी की पृथ्वी-1, पृथ्वी-2 और पृथ्वी-3 हैं जिनकी मारक क्षमता 150 से 600 किलोमीटर की है.
-मध्यम दुरी की अग्नि-1,2,3,4,5 मिसाइल है जिनकी मारक क्षमता 700 से 8000 किलोमीटर है.
-पाकिस्तान का ऐसा कोई भी शहर नहीं है जो भारतीय मिसाइलों की पहुंच में न हो.

भारत के पास है सुरक्षा कवच

भारत के पास ऐसे दो रक्षा कवच हैं, पहला रक्षा कवच ‘पृथ्वी एयर डिफेंस’ और दुसरा ‘एडवांस एयर डिफेंस सिस्टम’ है. अमेरिका, रूस और इजरायल के बाद भारत दुनिया का चौथा देश है जिसके पास इतना मजबूत मिसाइल डिफेंस सिस्टम है. पृथ्वी एयर डिफेंस सिस्टम में धरती से 80 कि.मीं ऊपर से जा रही मिसाइल को 200 से 300 कि.मी. पहले ही गिराया जा सकता है.
ये भी पढ़ें: जानिए देश के सबसे अच्‍छे और पेंथेरा टाइग्रिस के लिए प्रसिद्ध ‘पन्‍ना National park’ के बारे में

Leave a Reply