गजब इंडिया: इस सरकारी School के सामने पानी भरते नजर आते हैं अच्छे-अच्छे मंहगे Private School

आज के समय में कोई  भी अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में दाखिला नहीं दिलाना चाहता। सब चाहते हैं कि उनके बच्चे अच्छे से अच्छे से प्राइवेट स्कूलों में पढ़ाई करे, लेकिन इन स्कूल्स में एडमिशन दिलवाना हर किसी मां-बाप के बस की बात नहीं। लेकिन एक ऐसा सरकारी स्कूल भी है जिसके सामने पानी भरते हैं अच्छे-अच्छे मंहगे प्राइवेट स्कूल। सरकारी स्कूल के लिए लोगों के जेहन में जो छवि बनी है वो बताने की जरूरत नहीं। यूनिफॉर्म से लेकर स्कूल की व्यवस्था, मास्टर जी और बच्चे हर किसी की अपनी अलग ही पहचान होती है।

government sarvodaya co ed vidyalaya

स्कूलिंग कहां से हुई है

दरअसल सरकारी स्कूल के बच्चों को अगर आगे चलकर अगर कोई इंटयव्यू फेस करना पड़े तो ये सवाल जरूर किया जाता है कि ‘स्कूलिंग कहां से हुई है’? जवाब में सरकारी स्कूल का नाम सुनकर करेंट जरूर लग जाता है। लेकिन दिल्ली में एक ऐसा सरकारी स्कूल है जिसने प्राइवेट स्कूलों में ताला लगवाने की ठान ली है। प्राइवेट स्कूल के बच्चे इस स्कूल में दाखिले के लिए भाग कर आते हैं।
 

सारी रौनक एक झटके में ध्वस्त

सुविधा ऐसी कि प्राइवेट स्कूल की सारी रौनक एक झटके में ध्वस्त हो जाए। जो पैरेंट्स अपने बच्चों का एडमिशन महंगे स्कूलों में करवाकर अपने स्टेटस सिंबल को दिखाते हैं उन्हें भी इस सरकारी स्कूल के बारे में जानकर चक्कर आ जाए।

देकर इस सरकारी स्कूल का फायदा ले

जितने पैसे देकर पेरेंट्स अपने बच्चों को हाई फाई स्कूलों में डालते हैं, उससे कई गुना कम देकर इस सरकारी स्कूल का फायदा ले सकते हैं। शिक्षा से लगाकर व्यव्स्था तक सब कुछ प्राइवेट स्कूलों की तुलना में कहीं ज्यादा अच्छा है।
 

स्कूल का इंफ्रास्ट्रक्चर

इस स्कूल का इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट स्कूल को पटखनी देता हुआ दिख रहा है। बच्चों की यूनिफॉर्म के डिजाइन भी बाकी सरकारी स्कूलों के जैसे नहीं है। स्कूल में कंप्यूटर लैब और लाइब्रेरी की भी व्यवस्था है। यही नहीं स्कूल में सीसीटीवी लगाने, वॉटर कूलर, साइकल स्टैंड, बॉस्केटबॉल कोर्ट बनाने के लिए प्रपोजल भी मिल रहे हैं।
 

गवर्नमेंट सर्वोदय को-एड विद्यालय

यह स्कूल रोहिणी सेक्टर-21 फेज 3 में है। इसका नाम ‘गवर्नमेंट सर्वोदय को-एड विद्यालय’ है। इसी साल अप्रैल में बनकर तैयार हुए इस सरकारी स्कूल में 80 प्रतिशत बच्चे प्राइवेट स्कूलों को छोड़कर आए हैं। यही नहीं11वीं क्लास में 99 फीसद दाखिले प्राइवेट स्कूलों से आए बच्चों के हुए हैं। स्कूल शुरू होने के साढ़े तीन महीने के अंदर ही अब तक यहां करीबन 1200 बच्चों का एडमिशन हो चुका है। यहांनर्सरी से लेकर 12वीं क्लास तक के बच्चों के दाखिले हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *