गजब Report: 2012 से 2016 के बीच बीजेपी को मिला सबसे ज्यादा कॉरपोरेट दान

देश में अधिकतर राजनीतिक पार्टियों को मिलने वाले चंदे पर विवाद होता है. इन पार्टियों के चंदे को Right to information act यानी सूचना के अधिकार के तहत लाने की बात होती है, इन कोशिशों को तगड़ा झटका तब लगा था जब केंद्र की मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में ये पैरवी की थी ऐसे चंदों को सूचना के अधिकार से बाहर रखा जाता है. ऐसे में इंडिया स्पेंड की ये Report बहुत कुछ साफ करती नजर आ रही है.

Report
(प्रतीकात्मक तस्वीर: Zee News)

बीजेपी चंदा हासिल करने में नंबर वन पार्टी: Report

केंद्र सरकार में सत्तारूढ़ राजनीतिक दल भारतीय जनता पार्टी ( बीजेपी ) ने वर्ष 2012-13 और 2015-16 के बीच सबसे ज्यादा कार्पोरेट दान प्राप्त किया है. ये जानकारी, एक संस्था ‘एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स’ (ADR) द्वारा कंपनियों और व्यापारिक घरानों से राष्ट्रीय पार्टियों को 20,000 रुपए से अधिक ज्ञात दान पर किए गए विश्लेषण में सामने आई है.

705.81 करोड़ रुपये का दान लिया

विश्लेषण के मुताबिक, वर्ष 2012-13 और 2015-16 के बीच 2,987 कॉर्पोरेट दाताओं से भाजपा को 705.81 करोड़ रुपए का दान मिला है. दूसरे स्थान पर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) रही है.

विश्लेषण के मुताबिक कांग्रेस को 167 कॉर्पोरेट दाताओं से 198.16 करोड़ रूपए का दान प्राप्त हुआ है. दोनों के बीच का अंतर आप साफ देख सकते हैं.

राष्ट्रीय पार्टियों को 384.04 करोड़ रुपए प्राप्त हुए

एडीआर द्वारा विचारित राजनीतिक दलों में बीजेपी, कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्सवादी) या सीपीएम शामिल हैं.

मायावती की अगुआई में बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) को इसमें शामिल नहीं किया गया है, क्योंकि पार्टी ने घोषित किया था कि वर्ष 2012-13 और वर्ष 2015-16 के बीच 20,000 रुपए से अधिक का कोई स्वैच्छिक योगदान नहीं मिला.

कम से कम 1,933 दान से राष्ट्रीय पार्टियों को 384.04 करोड़ रुपए प्राप्त हुए हैं, लेकिन इनके योगदान फार्म में पैन विवरण नहीं था.
(साभार: इंडिया स्पेंड)
ये भी पढ़ें:  ‘लाल कोट’ को मुगलों ने बनवा दिया था ‘लाल किला’, जानिए ‘Lal Qila’ कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published.