तेजस्वी यादव: पढ़ाई में कमजोर, क्रिकेट में नाकाम, राजनीति के सूरमा बन पाएंगे ? जानिए तेजस्वी के बारे में हर एक बात

बिहार की सत्ता से बाहर हो गए लालू प्रसाद यादव, उनके बेटे और पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव अब पूरे विपक्ष को एकजुट करने में जुटे हैं. बिहार में उन्होंने बड़े पैमाने पर ‘बीजेपी भगाओ-देश बचाओ’ रैली का आयोजन किया. बिहार विधानसभा चुनाव के बाद से राजनीति के मंझे हुए खिलाड़ी लालू ने अपना पूरा फोकस बेटे तेजस्वी यादव की राजनीति ‘निखारने’ में लगाया है. ‘बीजेपी भगाओ-देश बचाओ’ रैली में विपक्षी दलों के 21 बड़े नेता शामिल हुए लेकिन केंद्र बिंदु रहे बिहार के ‘चिराग’ तेजस्वी यादव ऐसे में जानते हैं तेजस्वी से जुड़ी कुछ बेहद खास बातें:
तेजस्वी यादव

तेजस्वी यादव लालू के दुलारे, शिक्षा में कमजोर

लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव फिलहाल राजनीति में काफी सक्रिय हैं. लेकिन पढ़ाई लिखाई के मामले में उनका डिब्बा गोल ही रहा है. हिंदी और अंग्रेजी दोनों अच्छी तरह से बोलने वाले तेजस्वी यादव 8वीं पास हैं. 9वीं की पढ़ाई उन्होंने दिल्ली के आरकेपुरम के डीपीएस से की थी लेकिन आगे जारी नहीं रख पाए.

क्रिकेट में भी सिक्का नहीं जम पाया

27 साल के तेजस्वी राजनीति में आने से पहले क्रिकेट में नाम कमाना चाहते थे. उन्होंने झारखंड की तरफ से रणजी ट्रॉफी भी खेला लेकिन कुछ खास नाम नहीं कमा सके. साल 2008 में उन्होंने IPL का रूख किया 2012 तक वो इसका हिस्सा रहे, लेकिन ज्यादातर समय वो मैदान में कम और बाहर ज्यादा नजर आए.

सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव, ‘दिल की बात’ कर चुके हैं

अपने पिता लालू से ऊलट, तेजस्वी यादव राजनीतिक करियर के शुरुआती दिनों से ही सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं. ऐसा शायद वो इसलिए भी करते हैं क्योंकि वो खुद को बिहार के युवाओं के विकास का प्रतिनिधि मानते हैं. पीएम मोदी के मन की बात पर तेजस्वी फेसबुक और ट्विटर पर अपने समर्थकों के लिए ‘दिल की बात’ करते हैं. इस सेशन में वो बिहार से जुड़ी समस्याओं पर अपनी राय जाहिर करते हैं.

जबरदस्त महिला फैन फालोइंग

तेजस्वी की महिला फैन फालोइंग भी काफी है. बतौर डिप्टी सीएम एक बार उन्होंने सड़कों की मरम्मत करवाने के लिए लोग  वॉट्सएप नंबर (9470001346) जारी किया. तेजस्वी को इस नंबर पर शादी के लिए मैसेज आने लगे. हालात ये था कि करीब 44 हजार शादी के प्रस्ताव आ गए थे.

राजनीतिक करियर में कभी खुशी कभी गम

पहली बार ही चुनाव जीतकर बिहार के डिप्टी सीएम बनने वाले तेजस्वी यादव फिलहाल सत्ता से बेदखल हैं. उन्हें लालू की विरासत संभालनी है साथ ही अपना दामन भी साफ रखना है तभी वो आने वाले समय में बिहार की सही नुमाइंदगी कर सकेंगे. लेकिन उनके राजनीतिक करियर पर सवाल उठता है करियर के शुरुआती दिनों में ही लगने वाले भ्रष्टाचार के दाग से. तेजस्वी पर  घोटाले में शामिल होने का आरोप है साथ ही उनके नाम पर FIR भी दर्ज है. ऐसे में आने वाला समय उनके लिए मुश्किलों भरा भी हो सकता है.

Leave a Reply